श्री अम्बे जी की आरती।
आरती संग्रह

श्री अम्बे जी की आरती

जय अम्बे गौरी मैया जय श्यामा गौरी, तुमको निशिदिन धयावत हरि ब्रह्ना शिवजी । जय   मॉंग सिन्दूर विराजत टीको मृग मद को, उज्जवल से दोउ नैना, चन्द्रवदन नीको । जय   कानन कुण्डल शोभित नासाग्रे मोती, कोटिक चन्द्र दिवाकर राजत सम ज्येाति । जय   कनक समान कलेवर रक्ताम्बर राजे, रक्त कुसुम गल माला […]

श्री सत्यनारायण जी की आरती।
आरती संग्रह

श्री सत्यनारायण जी की आरती

जय लक्ष्मी रमणा जय लक्ष्मी रमणा, सत्य नारायण स्वामी जनपातक हरणा । जय0   रतन जडि़त सिंहासन अद्भुत छवि साजे, प्रगट भये कलिकारण द्विज को दरश दियो, बूढ़ो ब्राह्नाण बन कर कंचन महल कियो । जय0   दुर्बल भील कराल तिन पर दया करी चन्द्रचूड़ एक राजा उसकी विपति हरि । जय0   वेश्य मनोरथ […]

श्री विष्णुजी की आरती
आरती संग्रह

श्री विष्णुजी की आरती

ॐ जय जगदीश हरे, स्वामी जय जगदीश हरे। भक्त जनों के संकट, दास जनों के संकट, क्षण में दूर करे॥ ॐ जय जगदीश हरे… जो ध्यावे फल पावे, दुःख बिनसे मन का, स्वामी दुःख बिनसे मन का। सुख सम्पति घर आवे, सुख सम्पति घर आवे, कष्ट मिटे तन का॥ ॐ जय जगदीश हरे… मात पिता […]

श्रीलक्ष्मी जी की आरती
आरती संग्रह

श्रीलक्ष्मी जी की आरती

ॐ जय लक्ष्मी माता, मैया जय लक्ष्मी माता। तुमको निशिदिन सेवत, हरि विष्णु विधाता॥ ॐ जय……. उमा, रमा, ब्रह्माणी, तुम ही जग-माता। सूर्य-चन्द्रमा ध्यावत, नारद ऋषि गाता॥ ॐ जय……. दुर्गा रुप निरंजनी, सुख सम्पत्ति दाता। जो कोई तुमको ध्यावत, ऋद्धि-सिद्धि धन पाता॥ ॐ जय……. तुम पाताल-निवासिनि, तुम ही शुभदाता। कर्म-प्रभाव-प्रकाशिनी, भवनिधि की त्राता॥ ॐ जय……. […]

विघ्नहर्ता श्री गणेश जी की आरती
आरती संग्रह

श्री गणेशजी की आरती

जय गणेश जय गणेश जय गणेश देवा। माता जाकी पार्वती पिता महादेवा॥ एक दंत दयावंत, चार भुजा धारी। माथे सिंदूर सोहे, मूसे की सवारी॥ जय गणेश….. पान चढ़े फल चढ़े, और चढ़े मेवा। लड्डुअन का भोग लगे, संत करें सेवा॥ जय गणेश….. अंधन को आंख देत, कोढ़िन को काया। बांझन को पुत्र देत, निर्धन को […]