सीमा गुंबर का ज्योतिष
Astrology of Famous People

सीमा गुंबर, Director of Star Buzzz Events का ज्योतिष

चकाचौंध की दुनिया, रंगमंच पर अभिनय, लोगों के मिलने की भीड़, लाखों की संख्या में अनुरागी, अलिशान घर, लग्जरी कार, भोग-विलास, सुख-सुविधाओं से युक्त जीवन होने पर भी फेमस सेलिब्रिटी सीमा गुंबर की जन्मकुंडली में शनि, चन्द्रमा, गुरू ग्रह दिला देगा जीवन से सन्यास।

ग्रहों की चाल किसी को कब राजा और रंक बना दें कुछ कहा नहीं जाता क्योंकि जन्मकुंडली तो पूर्व जन्मों के कर्मों का नक्शा होता है जैसे पूर्व जन्म में कर्म किये उसी अनुसार इस जीवन में फल की प्राप्ति होती है इसी तरह चमक-धमक की दुनिया में जीवन व्यतीत करने वाली प्रसिद्ध हस्ती के ग्रह भी उसे सन्यास धारण करा देगे।

टी.वी. कलाकार अभिनेत्री, समाज सेविका और बज़्ज़ इवेंटस् की निदेशक ‘सीमा गुंबर’ का जन्म 22 अक्टूबर, 1974 को प्रातः 4.30 फरीदाबाद, हरियाणा में कन्या लग्न और धनु राशि में हुआ है। जन्म के समय भोग-विलास कारक शुक्र की महादशा शनि की विंशोत्तरी दशा चल रही थी।

सीमा गुंबर की जन्मकुंडली

22 अक्टूबर, 1974, समय प्रातः 4.30 बजे,  फरीदाबाद (हरियाणा)

सीमा गुंबर एक सफल बिजनेस बुमैन है क्योंकि इनका जन्म कन्या लग्न में हुआ है, कन्या लग्न का स्वामी बुध है जो व्यापार पंसद ग्रह है। इन पर बुध ग्रह का पूर्ण प्रभाव है, बुध लग्न का स्वामी बन ‘धन स्थान’ में सूर्य के साथ स्थित है और साथ में पराक्रम मंगल, भोग विलास का स्वामी शुक्र स्वराशि में है इसी कारण स्वयं अपने पुरूषार्थ द्वारा व्यवसाय बनाया, शुक्र ने उसमें चमक-धमक और रंगीन बना दिया, तो सूर्य ने उसको फेमस कर धन प्राप्ति का आधार बना दिया। चार ग्रहों ने एक साथ स्थित होकर इनको सफल बिजनेस बुमैन बना दिया इसी कारण सीमा गुंबर स्टार बज़्ज इवेंटस् की निदेशक बनी।

कन्या लग्न में जन्म होने से इनके व्यवहार में कुशलताओं के साथ-साथ बहुत सारी कलाओं की भी जानकारी के साथ-साथ वाक्पटु भी बनेगी। इन्हीं गुणों के कारण लोग आपकी तरफ आर्किषत होंगे। कन्या लग्न इनके जीवन में परिवारिक सदस्यों के प्रति मित्रता का व्यवहार पैदा करता है किन्तु व्यवसाय में कूटनीतिज्ञ और चतुरता का व्यवहार होगा। चुंकि बुध एक नवयुवक ग्रह है इसी कारण ये सदैव शारीरिक रूप से युवा के जैसी ही दिखाई देगी अर्थात् वृद्धावस्था में भी जवान रहेगी ये इनको गॉड-गिफ्ट मिला है, बुध के कारण ही व्यक्तित्व आकर्षक है, नेत्र सुन्दर, चेहरे पर एक मुस्कराहट सदा विराजमान रहेगी। कद लम्बा नहीं होगा। बदन छरहरा और लालिमा लिये वृद्धावस्था में भी युवा ही प्रतीत होंगी। यात्राओं और भ्रमण पर आना-जाना लगा रहेगा। बुध कपड़ों का प्रतिनिधित्व करता है जिसके कारण नूतन वस्त्रों का संग्रह होगा और व्यवसाय में वस्त्रों की भी अहम भूमिका होगी।

इनकी जन्म कुंडली में सूर्य, मंगल बुध और शुक्र की द्वितीय स्थान में युति है। तृतीय भाव में राहु वृश्चिक राशि में स्थित है। धनु राशि का चन्द्रमा चतुर्थ भाव में है। गुरू चतुर्थ और सप्तम भावाधिपति होकर षष्ठ भाव में, नवम भाव वृष राशि में केतु और पंचम एवं षष्ठ भाव का स्वामी बन शनि दशम भाव में स्थित है।

 

प्रसिद्ध सेलिब्रिटी बुमैन बनाने का योग।

व्ययेश सूर्य द्वितीय भाव, तुला राशि में नीच होकर स्थित है इसी कारण सूर्य यहां हजार राजयोगों का नष्ट कर रहा है किन्तु लग्नेश बुध और शुक्र की सूर्य के साथ युति ‘नीचभंग’ राजयोग का निर्माण कर रही है इसी कारण सीमा गुंबर एक फेमस सेलिब्रिटी है ऐश्वर्यशाली जीवन व्यतीत कर रही है। ‘नीचभंग’ राजयोग से ही ये बुद्धिमान है एवं अपने बुद्धिबल द्वारा धन कमा रही है और जीवन में आगे उपलब्धियों को प्राप्त करेंगी एवं समाज में एक प्रतिष्ठित व्यक्ति का पद प्राप्त करेंगी। सूर्य और बुध ने ही ऑल इंडिया प्रोफेशनल कॉग्रेस, कोर कमेटी की सदस्य “I am SME” बना कर प्रसिद्धि दिलाई। राहु चुंकि कन्या लग्न के लिए शुभ है और लग्नेश बुध का मित्र भी है जिसके कारण राहु ने अपने कार्यकाल में ही ‘मिसेज इंडिया एथनिक 2017’ पर निदेशक के तौर पर तीन वर्ष तक सफलता प्राप्त करवाई। राहु में सूर्य आने से वर्तमान में Dilli Darling टीवी सिरियल में अपना अभियन प्रस्तुत कर रही है।

चन्द्रमा का चतुर्थ भाव में होना कन्या लग्न के लिए उचित नहीं है फिर भी चन्द्रमा मित्र राशि में है इसी कारण चन्द्रमा ‘यामिनीनाथ’ योग का निर्माण कर मकान, जमीन और पैतृक संपत्ति की प्राप्ति करवायेगा और किसी महिला/पुरूष की रियासत सम्पत्ति मिलने का योग है, कोई धनी बुजुर्ग महिला जो आपकी संबंधी नहीं होगी से संरक्षण प्राप्त होगा। चन्द्रमा ही भारत सरकार से कोई कॉन्ट्रेक्ट दिला कर व्यवसाय में उन्नति की प्राप्ति करवायेगा। चन्द्रमा चतुर्थ भाव में है और उस पर पंचमेश व षष्टेश शनि का प्रभाव है इसी कारण सीमा गुंबर का राजनीति में भी जाने का योग है किन्तु राजनीति में सफलता नहीं प्राप्त होगी और यदि राजनीति की तरफ रूख किया तो धन नष्ट होगा। शनि से चन्द्रमा का पीडि़त होना ही छोटी-छोटी बातों से मन को दुखी कर दिया करेगा। मित्रों की संख्या देखने में बड़ी लगेगी किन्तु वास्तव में कुछ से ही मित्रता स्थायी रहेगी। मित्रों में से ही लोगों की ईष्या का सामना करना पड़ेगा और पीठ के पीछे नुक्सान करने की चेष्टा करेंगे, चुंकि शनि की पूर्ण दृष्टि से चन्द्रमा पीडि़त है तो ऐश्वर्यशाली जीवन व्यतीत करते हुए अंतिम समय में धार्मिकता की ओर मुख हो जायेगा यद्पि वर्तमान में धर्मपरायणा नहीं हैं फिर भी आप अपने सभी व्यवसाय, विख्याति आदि त्याग कर संन्यास धारण कर लेगी और जैसे-जैसे आयु बढ़ेगी बड़े-बड़े कार्य और अनुसंधानों पर विजय प्राप्त होती चली जायेगी।

ज्योतिर्विद बॉक्सर देव गोस्वामी

 

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *