Astrology of Bollywood Stars

अक्षय कुमार का ज्योतिष

अक्षय कुमार हिन्दी सिनेमा जगत का वो नाम है जो अपने आप में ही एक अत्यंत विशाल सिनेमा लिये हुए है एक्शन, हास्य, गंभीर और रोमांचित कलाओं को बखुबी पर्दे पर उतार देता है। राजीव हरी ओम भाटिया अर्थात् अक्षय कुमार का जन्म वृश्चिक लग्न और तुला राशि में पंजाब के अमृतसर और गुरू की महादशा में हुआ है।

‘अरे नालायक तू कुछ करेंगा भी जिन्दगी में’ एक दिन इनके पिता हरिओम भाटिया ने अक्षय कुमार अर्थात् राजीव भाटिया से कहा तो इनके कंठ में उस दिन देव कृपा से सरस्वतीजी आ गई थी और अक्षय कुमार ने कहा ‘करूगा क्या ? हिरो बनूंगा’ जब स्वयं अक्षय कुमार को भी नहीं मालूम था कि वो एक दिन अक्षय कुमार बन जायेंगे।

दिल्ली में एक कोठी की दीवार के पास अपना फोटों खिचवाने के लिए खड़े हुए तो उसके चौकीदार ने अक्षय कुमार को वहां से हटा दिया था किस्मत और ग्रहों ने अक्षय कुमार का साथ दिया और आज 150 से अधिक फिल्मों का सफर तय करने वाले सिनेमा जगत के प्रसिद्ध अभिनेता अक्षय कुमार ने उस कोठी को भी खरीदा साथ ही साथ सिनेमा जगत के साथ-साथ लोगों के दिलों पर राज भी कर रहा है। एक से एक सुपरहिट फिल्म देने वाले अक्षय कुमार की जन्म कुंडली बहुत मजबूत है और योग कारक है।

अक्षय कुमार की जन्मकुंडली
9 सितम्बर, 1967
समय 12-45 दोप. अमृतसर (पंजाब)

वृश्चिक लग्न में मंगल लग्नेश और षष्टेश है साथ ही जन्म कुंडली में ‘रूचक योग’ का निर्माण भी कर रहा है। रूचक योग के कारण अक्षय कुमार आज राजा के समान ऐश्वर्यशाली और पराक्रमी भी है लग्नेश मंगल से ही अक्षय कुमार एक्शन हीरों बना। हालांकि अक्षय कुमार मांगलिक है साथ ही में स्वाभिमानी भी इसी कारण अक्षय कुमार सिद्धान्तवादी मनुष्य है और कमजोरों की सहायता करता है।

अक्षय कुमार कोई भी कार्य करने से पूर्व उसकी रूप रेखा तैयार करता है क्योंकि एकादश भाव में बुध का उच्च और स्व राशि में होने के कारण अक्षय कुमार अपना प्रभाव जमाने के लिए अपनी तेज बुद्धि का प्रयोग करता है और असफलता को सफलता में बदलने के लिए प्रयत्न करता है।

दशमेश सूर्य राजयोग कारक है। सूर्य का दशम भाव में स्वराशी का होना ‘रविकृत राजयोग’ बना रहा है जिसके कारण अक्षय कुमार का आत्मबल उत्तम है और राजनीति का जबदस्त योग बन रहा है किन्तु वहीं शुक्र भी स्थित है जिसके कारण अक्षय कुमार को राजनीति में संघर्ष करना होगा। चन्द्रमा का द्वादश भाव में तुला राशि का केतु के साथ होना उम्र बढ़ने के साथ आध्यात्म मार्ग पर ला खड़ा कर देगा और धन को लोगों के परोपकार, महिलाओं की सुरक्षा, देश अथवा राज्य में संकट के समय खर्च भी करेंगा।

ज्योतिर्विद बॉक्सर देव गोस्वामी

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *